Website bounce rate kya hai, Bounce rate increase hone ke 5 reason

Website bounce rate क्या है – bounce rate increase होने के कारण

Bounce rate नाम जरूर सुना होगा. लेकिन, वो क्या है, ये हम नहीं जानते है. कई ब्लॉगर इसे नजरअंदाज कर देते है. बाउंस रेट हमारे SEO के लिए जरुरी है. क्या आपकी वेबसाइट attractive बनाई है, क्या आपके reader आपके ब्लॉग पर लंबे समय से रह रहे हैं या तो तुरंत जा रहे हैं? आप अपने google analytics account लॉगिन करके चेक करे की मेरे ब्लॉग या website bounce rate कितना है.

यदि आप WordPress का यूज़ कर रहे है उनमे आप analytics plugins पर नजर करे और पता करे. अगर आपका Bounce rate 50% से ज्यादा है तो ये SEO के लिए सही नहीं, इसे कम करने की जरूर है.

आपको पता है अपने performance के आधार से bounce rate calculate किया जाता है, लेख में website bounce rate केबारे में चर्चा करेंगे और बाउंस रेट को कैसे कम किया जाता है. पहले हम बाउंस रेट क्या इस बारे में चर्चा करेंगे ये जानना जरुरी है.

Website bounce rate क्या है?

Website bounce rate एक इंटरनेट मार्केटिंग शब्द है जिसका उपयोग वेब ट्रैफ़िक Analysis में किया जाता है. आपकी वेबसाइट ट्रैफ़िक में बाउंस दर आपको उन reader के बारे में बताते है जो आपकी वेबसाइट पर आते हैं और कितने टाइम तक रुकते है और website bounce rate की गणना google web analytics जैसे टूल्स के द्वारा किया जाता है.

यदि आपके Website bounce rate ऊंच है तो यह इंगित करता है कि आपके वेबसाइट के reader उस contents की तलाश नहीं कर रहे हैं जिसे वे वास्तव में पढ़ना चाहिए या आपके blog की speed कम के वजह से वो पूरा ब्लॉग लोड होने से पहले ब्लॉग छोड़ देते है और ये हो सकता है की contents unique नहीं है.

Reader अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर थोड़ी देर तक रुकना जरुरी है, हमारी वेबसाइट पर थोड़ा समय लें क्योंकि अधिक समय का मतलब अधिक selling या पूरा पढ़ना और ब्रांड है तो बेचने की अधिक संभावनाएं बन सकती है.

आपका Website bounce rate ज्यादा है सोच रहे की कितना हमारे लिए good है. नीचे lists आपको बता सकती है कितना होना चाइये भी अपने बाउंस रेट इस lists के साथ compare करे और पता लगाए कितना बाउंस रेट कम करने की जरूरत है.

  • Good: 22 to 40
  • Average: 41 to 55
  • High: 55 to 100

google analytics ने help center पर कुछ bounce rate बारे में बताया है वहा पर जाने के लिए यहां क्लिक करे: About bounce rate

बाउंस रेट बढ़ने के 5 कारण

यदि आपका बाउंस रेट ज्यादा है तो निचे दिए सूची आपको ये suggestion करती है की किस कारण से अपने website bounce rate बढ़ता है और ये सूची में अपने ब्लॉग मेल खाते है तो इसे सुधारने कोशिस करे.

1. बहुत सारे Ads होने की वजह

लोग अपने सवाल का समाधान का हल करने के लिए या अपने query or question पाने के लिए जाते हैं. लेकिन, अगर उनका उपयोगी contents दिखाने से पहले pop up, intrusive ads और बिनजरूरी contents के साथ अपने ब्लॉग में रखते है और ads की वजग से contents शो होने में देर होते है इसलिए reader ब्लॉग तुरंत छोड़ देते है.

कई ब्लॉग तो affiliate ads लगाते है और साथ में adsense की कमाई है तो भी, में आपको request करता हु की ज्यादा ads न रखे. ads की वजह से अपने blog की स्पीड कम होगी, यदि आपके ब्लॉग कमाई के अलावा और कोई ads है तो उन तुरंत निकाल दे.

2. Mobile friendly design न होने से

desktop पर सर्च की जगह मोबाइल खोज ज्यादा होते है. आप एक good डिज़ाइन प्राप्त करके उसके ब्लॉग को एक मोबाइल डिज़ाइनर बना सकते हैं, जो इसे सभी स्क्रीन आकारों के लिए optimize करता है. mobile friendly ब्लॉग मोबाइल reader को टैप करने का एक शानदार तरीका है, इसमें कोई संदेह नहीं है, लेकिन उपयोगकर्ता के अनुभव को बढ़ाने से, मोबाइल उपयोग करने से website bounce rate में कमी होगी.

यदि आपके ब्लॉग themes mobile friendly नहीं है तो mobile रीडर को लोड होने में देरी होगी. क्योकि जब अपने ब्लॉग पर tap करते है, तो वो desktop के view में ओपन होगी, इसलिए पुरे ब्लॉग load होने में टाइम लगेगा. इस देरी की वजह से रीडर तुंरत ब्लॉग छोड़ देंगे. इस लिए अपने ब्लॉग या वेबसाइट को mobile friendly बनाये.

3. Internal link न होने से

Internal linking एक महान एसईओ strategy है और साथ ही बाउंस रेट को कम करने का एक अच्छा तरीका है. अपने ब्लॉग पोस्ट की links add करे, वो भी ब्लॉग पोस्ट के related होना चाइये. इंटरनल लिंक से reader ज्यादा समय रहेगा जिससे हमारी Website bounce rate कम होगा.

4. Readability contents न होने से

page में सबसे बड़ा रोल contents का है. उसके बिना पेज एक white पेज की तरह दीखते है इसलिए आपको अपने post contents को unique, bold text, bullet point के साथ organize करे ताकि reader को attractive हो सके. जिससे reader को पूरा post पढ़ने में रूचि लगे. यदि आपके पास contents रिलेटेड कोई video है तो इसे पोस्ट में embed करे, वीडियो पसंद आयेंगा तो वीडियो देखने में रुकेगा.

5. Blog या website की design good न होने से

ब्लॉग या वेबसाइट की डिज़ाइन हमारे रीडर को प्रभाव डालती है ब्लॉग की डिज़ाइन दिखने में रीडर को अनुकूल नहीं है और रीडर ब्लॉग पर रहने की संभवना नहीं है. आप WordPress का उपयोग कर रहे है, तो ब्लॉगर के बुकाबले WordPress themes color, font और layout में customize करे फीचर्स बहुत बहुत अच्छी है, इसलिए अपने ब्लॉग या वेबसाइट को रीडर को attractive लगे इस तरह से customize करे.

Read: Blog vs Website में क्या अंतर है?

मुझे पूरी उम्मीद थी की website bounce rate क्या है और bounce rate increase होने के कारण क्या है आप अच्छे से समझ गए है और अगर आपके बाउंस रेट ज्यादा है तो ऊपर दिए 5 bounce rate increase टिप्स को जरूर फॉलो करे ये आपको जरूर बाउंस रेट कम करने में मदद करेंगे.

Read: What is search engine optimization? हिंदी में

यदि आपको कोई सवाल है तो हमे comments बॉक्स में पूछे हम आपका जवाब देने के लिए तैयार है. ये लेख  social media पर जरूर share करे.

Article written by Dharmesh

I am the proprietor of Dharmesh and Web Blogger Tips. This is a HIndi blog that was created in WBT 2018 and we will keep you updated with WBT, so take a Subscribe, If using social media, than Facebook and Google+ are connected to Like and Follow...

This Article Has 1 Comment
  1. Pintu Reply

    Very interesting articles, thanks dharmesh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *