backlinks kya hai

What are backlinks? – backlinks कितने प्रकार की होती है

Backlinks हमारी साइट के लिए बहुति महत्वपूर्ण seo में से एक है. कई ब्लॉगर अपनी ब्लॉग शुरुआत से ही backlinks बनाना शुरू कर देते है. हा ये जरूर याद रखे की आपका contents पूरा unique है तो आपको कम बैकलिंक्स की जरूरियात है सर्च रैंक आपो-आपो मिलेंगा.

सर्च इंजन पहले हमारी में quality links की गणना करके इस पैरामीटर को मापते हैं. आपकी साइट को अन्य साइटों की तुलना में अन्य साइटों की तुलना में समान गुणवत्ता वाली सामग्री की तुलना में कम खोज परिणामों के top पर सूचीबद्ध किया जाएगा.

यदि आपकी साइट search engine पर पहले पेज होगी तो विजिटर आपके साइट पर क्लिक करेंगा, इसलिए बेहतर ट्रैफ़िक प्राप्त करने के लिए आपकी साइट पर quality वाले बैकलिंक प्राप्त करना महत्वपूर्ण है.

आपको ये लगता है की quality बैकलिंक्स बनाना आसान है, बिलकुल नहीं. ऐसे करने के लिए आपको ऑनलाइन पर ढूढ़ना पड़ेंगा, जो उच्च authority वाली साइट पर लिंक करना होगा. पहले आप ये जानना जरुरी है की backlinks क्या है.

What are Backlinks? 

Backlinks एक प्रकार की link है और हम इसे Inbound Link (IBL) भी कहते है जो एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट से मिलती है. सर्च इंजन पर result का बड़ा roll बैकलिंक्स पर प्रभाव डालते है. 

बैकलिंक्स बनाने लिए websites के मालिकों द्वारा व्यवहार किए जाते हैं और इनमें से कुछ बुरे तरीके हैं बैकलिंक्स खरीदना, लिंक एक्सचेंज नेटवर्क, बैकलिंक्स बेचना आदि. इन तरीको में से अधिकांश खोज इंजन द्वारा Recommended नहीं है. गलत तरिके से backlinks बनाना सर्च इंजन के लिए सही नहीं वे आपको warring भी कर सकते है और block भी.

link एक html का structure है जो इस तरह दीखता है. इस लिंक में अपना url और anchor tag दर्ज करके आप दूसरी साइट या ऑनलाइन पेज ऐड करके पब्लिश कर सकते है.

LINK HTML CODE

Anchor Tag <a>: link की शुरुआत इस टैग द्वारा दर्शाई जाती है.

Link Reference: Hyperlink Referral (href) उस पते को इंगित करता है जिससे Anchor text इंगित कर रहा है. इस पते quotation अंदर लिखा जाता है. पते के लिए वेब पेज होना ज़रूरी नहीं है क्योंकि यह छवि या फ़ाइल का लिंक भी हो सकता है.

Anchor Text: anchor text एक टेक्स्ट और एंकर टैग का केवल एक हिस्सा होता है जो वेब पेज पर उपयोगकर्ता को देखा जाता है. जब इस पर क्लिक करते है तो ये खुल कर जो लिंक दी गई वही पर ले जाता है.

Closing Tag </a>: यह link के अंत के बारे में सर्च इंजन को को इंगित करता है, यह हाइपरलिंक टैग का सिर्फ बंद होना है.

backlinks के प्रकार 

यदि आप अनजान है की backlinks के प्रकार के बारे में तो निचे नजर करे.

1. No-follow link: जब कोई वेबसाइट किसी अन्य वेबसाइट से लिंक करती है, लेकिन लिंक पर no-follow link tag होता है, तो वह लिंक juice पास नहीं करता है. पृष्ठ की रैंकिंग के संबंध में नो-फ़ॉप्स सूची उपयोगी नहीं है क्योंकि इसमें कुछ और योगदान नहीं है, webmaster एक अविश्वसनीय साइट से हटाए जाने पर no-follow link tag का उपयोग करता है.

No-follow link

यह एक छोटे अंतर की तरह दिखता है, लेकिन Google के लिए, यह बहुत मायने रखता है, जब खोज इंजन वेब को क्रॉल करता है, वे इस “rel” को नोटिस करते है और जानते है की backlink केवल एक पेज से दूसरे में एक लिंक है और किसी भी Authorization metrics को एक डोमेन से दूसरे में transfer नहीं हो सकता है.

2. Do-Follow link: do-follow-link न केवल एक पेज को दूसरे से लिंक करते है, बल्कि साइट की गुणवत्ता मीट्रिक को स्थानांतरित करते हैं. जिसका अर्थ है कि आप अधिक से अधिक dofollow backlinks प्राप्त कर सकते हैं, आपका डोमेन अधिक योग्य होगा.

Do-Follow link

इस तरह का लिंक मैंने ऊपर भी पेस्ट किया उसका कोड, वो do follow लिंक है. इस तरह से html कोड में dofollow backlink दीखता है, जो ब्लॉग post, news आदि में डाले जाते है और कई बार ब्लॉगर comments बॉक्स में या forum post के रूप में भी दिखा जाता है.

आपको backlinks बनाना जरुरी क्यों है.

बड़ी संख्या में वेबसाइट के मालिक हैं जो अपने बैकलिंक्स की जांच और निगरानी करते हैं। इसलिए, जब आप अन्य साइटों से लिंक करते हैं, तो वे आप पर ध्यान नहीं देते हैं. ऑनलाइन माहौल को देखना मुश्किल है लेकिन यह बहुत महत्वपूर्ण है.

अन्य साइटों को जोड़ना एक Long term strategy है, खासकर यदि आप अभी शुरू करते हैं. यदि आपको पहला रीज़न बताऊ की क्यों जरुरी है तो backlinks हमारी sites पर लंबे समय तक विजिटर रहेंगे और हमारा बोनस रेट भी कम होगा, दूसरा रीज़न है की search engine पर रैंक होना. आपको ये जवाब मिल गया है की बैकलिंक्स क्यों बनाना जरुरी है.

मुझे पूरी उम्मीद है की ये लेख में आपको backlinks क्या है, बैकलिंक्स के प्रकार और क्यों जरुरी है और आपको ये पोस्ट की जानकारी उपयोगी लगी है तो अपने friends के साथ social media पर facebook, twitter और google+ पर share जरूर करे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *